Menu

अशोक गंगानगर पर हमले के पीछे बाहरी शराब कंपनियां तो नहीं ?

4 months ago 0 59

क्या बाबू सिंधी दोनों जिलों का शराब व्यवसाई बनना चाहता था?
मन्दसौर। (चैतन्य सिंह राजपूत)नीमच मन्दसौर जिले के भामाशाह मातारानी के भक्त अशोक अरोरा (गंगानगर) की सुपारी देकर हमला करवाने के पीछे कौन – कौन है पुलिस इसकी गहनता से पड़ताल कर रही है। मुख्य आरोपी बनाए गए बाबू सिंधी की अवैध सल्तनत पर बुल्डोजर फिराने का सिलसिला आज से शुरू हो चुका है। बाबू सिंधी को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही पुलिस को इस बिंदु पर भी जांच करना चाहिए की कहीं अशोक अरोरा (गंगानगर) पर हमला करवाने में बाहरी शराब कंपनियों का हाथ तो नहीं है।
बरसों से गंगानगर का एक छत्र राज है दोनों जिलों पर
शराब ठेकों की नीलामी के समय कई बाहरी शराब कंपनियां भी आती है और नीमच मन्दसौर जिले में ठेके लेकर अपना वर्चस्व कायम करना चाहती हैं लेकिन बरसों से दोनों जिलों में शराब सिर्फ और सिर्फ अशोक गंगानगर की बिकती आई है। बीच में सोम ग्रुप ने भी यहां अपने पैर जमाने की कोशिश की थी जिसका अंजाम सभी ने देखा है। शराब व्यवसाय के किंग अशोक गंगानगर पर आज तक कोई शराब कंपनी भारी नहीं पड़ सकी। अशोक गंगानगर एक दरियादिल शख्सियत है जो सभी को निभा कर चलते आए है यही कारण है की उन पर जानलेवा हमले के बाद दोनों जिलों में आम से लेकर खास तक हमलावरों से बेहद नाराज है और उन पर सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग भी कर रहे है। शराब व्यवसाय से जुड़े होने के बाद भी अशोक गंगानगर को लोग दिल से चाहते है हजारों लोगों की दुआओं से शायद उन पर हमला करने वाले नाकाम हो गए और हमले के पीछे रहे सभी लोगों की उल्टी गिनती शुरू हो गई।
गंगानगर के रहते कोई और शराब कंपनी नहीं आ सकती
पुलिस को इस बिंदु की पड़ताल बहुत गहनता से करना चाहिए की अशोक गंगानगर पर हमले के पीछे कहीं बाहरी शराब कंपनियों का हाथ तो नहीं? क्योंकि अशोक गंगानगर के रहते तो कोई और शराब कंपनी यहां आ नहीं सकती शायद इसीलिए बाबू सिंधी के साथ मिल कर यह साजिश रची गई हो की गंगानगर को रास्ते से हटाया जाए उसके बाद आने वाले दिनों में दोनों जिलों में शराब ठेके लेकर अपना वर्चस्व कायम किया जाए। हो सकता है बाबू सिंधी नई कंपनी बनाकर शराब व्यवसाय में उतरना चाहता हो ? या अन्य शराब कंपनी के साथ पार्टनरशिप में शराब ठेके लेना चाहता हो ? इस गेम में एक बड़े पुलिस अधिकारी की भूमिका की भी लोग दबी जुबान से चर्चा कर रहे हैं।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *