Menu

सर्पदंश से पीड़ित युवती को रेफर के बाद भी नहीं ले गए परिजन करवाते रहे झाड़-फूंक आखिर में हो गई मौत

11 months ago 0 3

खरगोन जिले के झिरन्या के शासकीय अस्पताल में लापरवाही की बडी तस्वीर सामने आई है। अंधविश्वास के चलते अस्पताल में सर्पदंश पीडिता एक युवती का दो घन्टे तक ओझा झाडफूंक करता रहा। लापरवाही के चलते युवती की मौत हो गई। अस्पताल में 17 वर्षीय युवती आशा खतवासे की झाड फूंक करते विडियो सामने आ रहा है। झिरन्या के इंदिरा नगर निवासी 17 वर्षीय आशा पिता राजू को घर में काम करने के दौरान सांप ने काट लिया था। अंधविश्वास के चलते परिजन दो घन्टे तक अस्पताल में ओझा से झाड फूंक कराते रहे। हालात बिगडने पर झिरन्या से जिला अस्पताल खरगोन रैफर कर किया गया लेकिन बीच रास्ते में युवती ने दम तोड दिया। अस्पताल प्रबंधन की बडी लापरवाही सामने आ रही है। इधर स्वास्थ्य महकमे के लोगो का कहना है की अंधविश्वास के चलते ओझा से परिजन झाड फूंक कराने ले आये थे। अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगा रहे परिजनों और ग्रामीणों में जमकर आक्रोश है। इधर अस्पताल प्रबंधन का कहना है की ओझा को झाडफूंक रोकने पर ग्रामीण और परिजन विरोध कर रहे थे। हलाकि बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का दावा सरकार करती हो लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी लचर स्वास्थ्य सुविधा ये तस्वीर सामने ला रही है। जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा डीसी चौहान का कहना है की झिरन्या का मामला संज्ञान में है। सर्पदंश पीडित युवती आशा पिता राजू को अस्पताल पहुंचते ही झिरन्या से खरगोन अस्पताल के लिये डाॅक्टरो ने रैफर कर दिया था लेकिन अंधविश्वास के चलते परिजन और ग्रामीणों झाड फूंक कराते रहे। अस्पताल में झाडफूंक का मना भी किया। खरगोन ले जाने का बोला लेकिन परिजन नही माने। परिजनों और ग्रामीणों के विरोध के चलते अंध विश्वास को अस्पताल प्रबंधन नही रोक पाया। बीएमओ ने एम्बुलेंस की व्यवस्था की बाद में हालात बिगडने से खरगोन रैफर किया गया लेकिन रास्ते में मौत हो गई। लापरवाही नही अंधविश्वास के चलते युवती की मौत हुई है। सीएमएचओ आमजन से स्वास्थ्य के मामले में अंधविश्वास नही करने की अपील भी कर रहे है। झिरन्या अस्पताल में एंटी स्नेक वेनम इंजेक्शन और आवश्यक उपचार को लेकर सीएमएचओ डाॅ चौहान का कहना है की इंजेक्शन अस्पताल में था लेकिन मामला गंभीर होने पर खरगोन रैफर किया गया था। परिजनो पर अंधविश्वास भारी था। ओझा को रोकने के दौरान परिजनों और ग्रामीणों ने विरोध किया।

डाॅ डीएस चौहान सीएमएचओ खरगोन

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *