Menu

फसल बीमे के नाम पर भाजपा ने किसानों के साथ किया छलावा- श्री पाटीदार

11 months ago 0 25

सीतामऊ। (राजेश चौधरी) यशस्वी दुनिया

भारतीय जनता पार्टी की सरकार किसानों को बीमा देने के नाम पर कई दिनों से ढिंढोरा पीट रही है, बीमा देने के नाम पर कई दिनों से लाखों-करोड़ों के विज्ञापन व बड़ी बड़ी सभाओं के नाम पर भारतीय जनता पार्टी ने जनता के टेक्स के पैसे खर्च किए। किसानों को भी लगा कि हमको अच्छा बीमा मिलेगा परंतु जब बीमा राशि खाते में जमा होने के मैसेज मोबाइल पर आने लगे तो किसानों में निराशा छा गई

सीतामऊ ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष सुरेश पाटीदार ने बताया की एक तरफ भारतीय जनता पार्टी अपने आपको किसान हितेषी बताती है, वही दूसरी तरफ जब पिछले 3 वर्षों से किसानों की फसलें खराब हो रही हैं और किसानों को बड़ी आस थी कि हमको इस बार अच्छा बीमा राशि मिलेगी, लेकिन किसानों के साथ इस बार भी छलावा ही हुआ। मात्र चार सौ , पांच सौ रुपए बीघा के मान से बीमा राशि खाते में जमा होने के मैसेज मिल रहे हैं। पाटीदार ने बताया कि मैं खुद एक किसान हूं मेरे नाम पर लगभग 10 बीघा जमीन है मेरे खाते में भी सभी खातों के मिलाकर बीमे के केवल ₹4800 सौ रुपये के लगभग जमा हुवे हैं जो कि एक ऊंट के मुंह में जीरा है । इससे अच्छी तो पूर्व मैं कांग्रेस की कमलनाथ की सरकार थी उस समय किसानों को बीमा राशि लगभग 4500 रुपए बीघा के मान से मिली थी, जब कमलनाथ की सरकार थी तब शिवराज सिंह बड़ी-बड़ी घोषणाएं करते थे कि यदि मेरी सरकार होती और प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों की फसल खराब होती तो मैं 40 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर के मान से बीमा देता आज कहां गई आपकी वो बातें। जब बीमा देने की बात आई तो शिवराज सरकार ने किसानों के साथ धोखा कर दिया। बीमा राशि को लेकर क्षेत्र के किसानों में आक्रोश है किसानों की मांग है कि हमको कम से कम 4 से 5 हजार रुपए बीघा के मान से बीमा राशि दि जाए अन्यथा आने वाले समय में भारतीय जनता पार्टी इसका खामियाजा भुगतने के लिए तैयार रहें।सीतामऊ ब्लॉक अध्यक्ष सुरेश पाटीदार ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी की शिवराज सरकार से मांग करता हूं कि किसानों को कम से कम 5 हजार रूपए बीघा के मान से बीमा राशि दी जाए अन्यथा आने वाले समय में कांग्रेस पार्टी एक बहुत बड़ा आंदोलन करेगी जिसके जवाबदेही भारतीय जनता पार्टी सरकार रहेगी।

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *