Menu
खालिस्तानी आतंक को जड़मूल से खत्म करने का अभियान तेज, इस आतंकी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी

खालिस्तानी आतंक को जड़मूल से खत्म करने का अभियान तेज, इस आतंकी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी

10 months ago 0 14

कनाडा में खालिस्तानी आतंकियों को शरण देने के मुद्दे पर कनाडा से चल रहे तनाव के बीच भारत सरकार का रुख और सख्त हो गया है. खालिस्तानी आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिए सरकार ने खुलकर अतिवादियों के खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर दिया है. भारत सरकार के अनुरोध पर इंटरपोल ने सोमवार को प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल (Babbar Khalsa International) के मेंबर करणवीर सिंह के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया. यह आतंकी वाधवा सिंह और हरविंदर सिंह रिंदा का दाहिना हाथ बताया जाता है.

पाकिस्तान में छिपा है आतंकी करणवीर सिंह

खुफिया सूत्रों के अनुसार करणवीर सिंह इस वक्त पाकिस्तान में छिपा हुआ है. इंटरपोल पोर्टल के अनुसार, करणवीर सिंह (38) (Karanvir Singh) मूल रूप से पंजाब के कपूरथला जिले का रहने वाला है. इस खालिस्तानी आतंकी के खिलाफ जारी हुए नोटिस को इंटरपोल ने अपनी वेबसाइट पर भी अपडेट किया. उस पर भारत में आतंकी वारदातों के लिए धन जुटाने, साजिश रचने और संगठन बनाने समेत कई संगीन मामलों में मुकदमे दर्ज हैं.

खालिस्तानियों पर तेज हुआ एक्शन

खालिस्तानी आतंकी करणवीर सिंह (Karanvir Singh) के खिलाफ इंटरपोल का नोटिस ऐसे वक्त में जारी हुआ है, जब अलगाववादी खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के मामले में भारत और कनाडा के बीच राजनयिक तनाव चल रहा है. कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने अपनी घरेलू राजनीति के दबाव में भारत पर निज्जर की हत्या का आरोप लगाया है, जिसका भारत की ओर से जोरदार खंडन करते हुए करारा जवाब दिया गया है.

सबूत पेश नहीं कर पा रहे ट्रूडो

भारत सरकार ने इन आरोपों को ‘बेतुका’ और ‘प्रेरित’ बताते हुए खारिज कर दिया. वहीं आरोप लगाने के बाद जस्टिन ट्रूडो अपना मुंह छुपाते घूम रहे हैं. न्यूयार्क में एक संवाददाता सम्मेलन में कनाडाई प्रधान मंत्री निज्जर की हत्या में भारतीय मिलीभगत के दावे पर कोई सबूत पेश करने में विफल रहे. ट्रूडो से आरोपों की प्रकृति के बारे में बार-बार सवाल पूछे गए लेकिन वह इस बात पर अड़े रहे कि यह मानने के विश्वसनीय कारण थे कि भारत निज्जर की मौत से जुड़ा था.

क्या है नोटिस जारी होने का मतलब?

इंटरपोल (Interpol) की ओर से रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने का मतलब ये होता है कि संबंधित देशों की पुलिस आरोपी को ढूंढे और उसे जब तक अपनी कस्टडी में रखे, तब तक कि उसका प्रत्यर्पण या अन्य कानूनी कार्रवाई न की जा सके.

गैंगस्टर भाऊ के खिलाफ भी नोटिस

इंटरपोल ने इससे पहले गैंगस्टर हिमांशु उर्फ ​​भाऊ के खिलाफ सभी सदस्य देशों को रेड नोटिस जारी किया था. हिमांशु के बारे में माना जाता है कि वह विदेश में रह रहा है. हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि रोहतक पुलिस एक मोस्ट वांटेड आरोपी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कराने में सफल रही, जिसके बारे में माना जा रहा है कि वह विदेश भाग गया है.

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *